Share

Category: Uncategorized

प्राचीन भारत के 13 विश्वविद्यालय जहां पढ़ने आते थे दुनिया भर के छात्र

#प्राचीन भारत के 13 विश्वविद्यालय जहां पढ़ने आते थे दुनिया भर के छात्र जिसे तुर्की, मुगल, अरबी, हूण आक्रमणकारियो ने सब नष्ट कर दिया । मेगास्थनीज अलविरुनी ह्वेनसांग फाह्यान के ग्रन्थो मे अति समृद्ध भारत के वर्णन है। वैदिक काल से ही भारत में शिक्षा को बहुत महत्व दिया गया है। इसलिए उस काल से […]

read more

कन्यादान – करें या नही !

नयी उमर के ‘बौद्धिक क्रांतिकारी’ समय मे बहुत सी परंपराएँ, स्त्री को कमतर आंकने वाली लगती थीं। जब तब मंचों से तीखे शब्दों में इसका विरोध भी करते थे। फिर जब सचमुच बुद्धि आयी, तब इन परंपराओं के पीछे के कारण खोजने मे मज़ा आने लगा। जो कारण मन को संतुष्ट करते हैं उनसे जुड़ी […]

read more

ताश का मर्म

हम ताश खेलते है, अपना मनोरंजन करते है। पर शायद कुछ ही लोग जानते होंगे कि ताश का आधार वैज्ञानिक है व साथ साथ ही प्राकृति से भी जुड़ा हुआ है:- आयताकार मोंटे कागज़ से बने पत्ते चार प्रकार के …..ईंट, पान, चिड़ी, और हुक्म, प्रत्येक 13 पत्तों को मिलाकर कुल 52 पत्ते होते हैं। […]

read more